चंदवा – वीर सपूत नेताजी सुभाष चंद्र बोस की राजनीति दलों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ धूमधाम से जयंती मनाई गई।

0
495

चंदवा / लातेहार

चंदवा। विभिन्न राजनीतिक दलों ने भारत के वीर सपूत सुभाष चंद्र बोस की जयंती सुभाष चौक में मनाई गई, इस अवसर पर सभी दलों के प्रतिनिधियों ने सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि दी, कॉग्रेस प्रखंड अध्यक्ष सह राज्यसभा सांसद प्रतिनिधि असगर खान ने स्वतंत्रता संग्राम में नेताजी की अहम भूमिका की चर्चा करते हुए कहा कि नेताजी के जन्म दिन पर इस तरह का कार्यक्रम का आयोजन करना काफी सराहनीय है, हर क्षेत्रों में जयंती पर कार्यक्रम का आयोजन होना चाहिए, नेताजी सुभाषचंद बोस की जयंती और धूमधाम से मनाने की जरूरत है, उन्होंने आगे कहा कि नेताजी ने कहा था की तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा, इस संदेश के साथ लोगों को अंग्रेजों के विरुद्ध उन्होंने लड़ना सिखाया, कॉग्रेस सेवा दल जिला अध्यक्ष बाबर खान ने नेताजी को याद करते हुए कहा कि उनकी जीवनगाथा अविश्वसनीय है, बचपन से ही उन्हें देश के लिए कुछ करने की चाहत थी और इस चाहत को अपना संकल्प बनाकर देश को स्वतंत्रता की ओर ले गऐ,नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 को उड़ीसा में कटक के एक संपन्न बंगाली परिवार में हुआ था। बोस के पिता का नाम ‘जानकीनाथ बोस’ और माँ का नाम ‘प्रभावती’ था। जानकीनाथ बोस कटक शहर के मशहूर वक़ील थे। प्रभावती और जानकीनाथ बोस की कुल मिलाकर 14 संतानें थी, जिसमें 6 बेटियाँ और 8 बेटे थे। सुभाष चंद्र उनकी नौवीं संतान और पाँचवें बेटे थे। अपने सभी भाइयों में से सुभाष को सबसे अधिक लगाव शरदचंद्र से था। ‘नेताजी’ हर कीमत पर मां भारती को आजादी की बेड़ियों से मुक्त कराने को आतुर देश के उग्र विचारधारा वाले युवा वर्ग का चेहरा माने जाते थे. वह कांग्रेस के अध्यक्ष भी रहे। मौके पर कांग्रेस के रामयश पाठक,निर्मल भारती,कैलाश बैठा,मुकेश सिंह, मनीस भारती,सुनील ठाकुर, अरुन भारती,मो0 रसीद,छटन राम, मो0 साबीर अंसारी,झारखंड आंदोलनकारी मोर्चा के सुधीर प्रसाद, नेता रवि डे,समाजसेवी जगरनाथ उपाध्याय,प्रकाश जायसवाल, अधिवक्ता लाल प्रदीप नाथ शाहदेव, महेंद्र प्रसाद साहू,भाकपा के प्रमोद साहु, बाल श्रृष्टि सेवा संस्थान के मनोज सिंह पप्पू, छात्र छात्राएं शामिल थे।

रिपोर्ट राजधानी न्यूज से बबलू खान