दर्दनाक : झारखंड में अकेली रह रही मां की सड़ी-गली लाश मिली

0
424

गावां (गिरिडीह) । संयुक्त परिवार के विघटन की एक भयावह तस्वीर देखने को मिली है। झारखंड के गिरिडीह के गावां में मंगलवार को घर में एक बुजुर्ग महिला की सड़ी गली लाश देखने को मिली। घर में अकेली रह रही 55 वर्षीय महिला की सड़ी-गली लाश फंदे से लटकती हुई मिली। शव को देख अनुमान लगाया जा रहा है कि लाश पांच-छह दिन पुरानी है। हैरत यह है कि दिल्ली में रह रहे बेटा-बहू को मां की याद तक नहीं आई और न ही किसी तरह की बातचीत हुई। घर से दुर्गंध निकलने पर पड़ोसियों ने इसकी जानकारी पुलिस को दी।

कमली देवी की तीन बेटी व एक बेटा

कमली देवी की तीन बेटी व एक बेटा है। बेटा राजकुमार चौधरी दिल्ली में रहकर मजदूरी करता है।बहू भी उसके साथ दिल्ली में ही रहती है। तीनों बेटियां शादीशुदा हैं। घटना की सूचना पाकर घर पहुंची तीनों बेटी व दामाद पहुंचकर रोने बिलखने लगे। बेटियां बार-बार यही कह रही थी कि कितना बुलाते थे कि उसके घर आ जाओ, अकेली मत रहो पर नहीं मानती थी। कमली देवी को आखिरी बार बुधवार को गावां हाट बाजार में खरीदारी करते हुए ग्रामीणों ने देखा था।

पहले भी कर चुकी थी आत्महत्या की कोशिश

पुलिस आत्महत्या के कारणों का पता लगाने में जुटी है। इस बीच महिला के बेटे राजकुमार चौधरी ने फोन पर मीडिया वाले को   बताया कि करीब 6 माह पूर्व भी उसकी मां ने जहर खाकर जान देने की कोशिश की थी। हालांकि, जहर खाने के बाद खुद से फोन किया था कि वह अब मर जाएगी। इसके बाद आनन-फानन में आसपास के लोग व रिश्तेदारों को सूचना दी। लोग अस्पताल ले गए और उनकी जान बची। यह भी बताया कि वह मां को प्रतिमाह खर्च के लिए 5 हजार रुपए भेजता था। बावजूद सवाल उठ रहे कि बूढ़ी मां को अकेली क्यों छोड़ दिया था। पांच-छह दिनों से सुध क्यों नहीं ली।

बंद कमरे के अंदर रस्सी से झूलते हुए महिला का शव मिला है। शव में कीड़े लगे हुए थे। इससे प्रतीत होता है कि महिला की मौत 5-6 दिन पहले ही हुई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही सही कारण पता चल पाएगा। – विजय केरकेट्टा, थाना प्रभारी, गांवा