Mon. Jun 24th, 2024

झारखंड के पूर्व उपमुख्‍यमंत्री और आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्‍यक्ष काे जान मारने की धमकी

By Rajdhani News Aug 27, 2020 #ranchi

रांची: झारखंड के पूर्व उपमुख्‍यमंत्री और आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्‍यक्ष सुदेश महतो काे जान मारने की धमकी दी गई है। वर्तमान में सिल्‍ली से विधायक सुदेश महतो काे फोन कर 15 लाख रुपये की रंगदारी मांगी गई है। फोन करने वाले ने कहा कि अगर रंगदारी नहीं मिली तो घर में घुसकर गोली मार देंगे।

झारखंड में इन दिनों वीवीआइपी को कॉल कर रंगदारी और धमकी देने का खेल चल रहा है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और उनके कई अधिकारियों को जान से मारने की धमकी देने वालों का अभी तक पता नहीं चल पाया है। इस बीच राज्य के पूर्व डिप्टी सीएम और सिल्ली विधायक सुदेश महतो से 15 लाख रुपये की रंगदारी मांगी गई है।

रंगदारी मांगने वाले शख्स ने सुदेश महतो को धमकी दी है कि अगर पैसे नहीं मिले तो घर में घुसकर गोली मार देगा। इसे लेकर रांची के गोंदा थाना में सुदेश महतो की ओर से महेंद्र कुमार नामक व्यक्ति ने मामला दर्ज करवाया है। इसमें कहा गया है कि 14 अगस्त की रात सुदेश महतो के नंबर पर दो बार फोन आया। इसमें उनसे रंगदारी नहीं देने पर घर में घुसकर गोली मारने की धमकी दी गई है।

मामले में जमशेदपुर से जुड़े तार

इस मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस की टीम ने जमशेदपुर के एक युवक को हिरासत में लिया है। युवक ने बताया कि जिस नंबर से धमकी दी गई है, वह नंबर तो उसी का है लेकिन उसका मोबाइल 4 दिन पहले गुम हो गया था। इसका सन्‍हा भी उसने दर्ज करवाया था। पूछताछ के बाद पीआर बांड पर उस युवक को छोड़ दिया गया है। गौरतलब है कि राज्य के सीएम हेमंत सोरेन को भी ई-मेल भेजकर धमकी दी गई थी। इसे लेकर रांची के साइबर थाने में एफआइआर दर्ज कराई गई थी।

स्पूफ कॉल से दी गई धमकी

धमकी देने के लिए जिस नंबर का इस्तेमाल किया गया है, वह गुम हो चुका है। हालांकि स्पूफ कॉल के जरिये उसी नंबर का इस्तेमाल किया गया है। गोंदा थाना प्रभारी अवधेश ठाकुर कोरोना संक्रमण से ठीक होकर फिलहाल क्‍वारंटाइन में हैं। इस वजह से पूरे मामले की तफ्तीश खुद सदर डीएसपी दीपक पांडेय कर रहे हैं। जांच के क्रम में यह बात सामने आई है कि दोनों नंबरों से कॉल करने वाले जमशेदपुर के हैं। क्योंकि टेक्निकल सेल ने उनका लोकेशन जमशेदपुर बताया गया है।

ऐसे होती है स्पूफ कॉलिंग

स्‍पूफ कॉल का इस्‍तेमाल आपराधिक गतिविधियों में किया जाता है। एक एप के जरिये वास्तविक नाम और मोबाइल नंबर छिपाकर अन्य किसी व्यक्ति का नाम और नंबर अपलोड कर उस नंबर से कॉल किया जाता है। इसमें आवाज बदलने के साथ ही कई तरह के फीचर होते हैं। स्पूफ कॉलर जब किसी को फोन लगाएगा तो उस व्यक्ति के फोन पर अपलोड किया नाम और फोन नंबर दिखेगा। इससे टारगेट पर लिया व्यक्ति पूरे समय कन्फ्यूज रहेगा। जब वह उक्त नंबर डॉयल करेगा तो वास्तविक यूजर को फोन लगेगा, जिसका मामले से कोई लेना-देना नहीं होता है।

Related Post