2 बच्चों समेत गढ़वा की महिला को यूपी में बेचा, CM ने DC और SP को दिए कार्रवाई का आदेश

0
523

गढ़वा : -झारखंड के गढ़वा जिले में डंडई थाना क्षेत्र के जरही गांव निवासी सीताराम विश्वकर्मा की पत्नी देवंती देवी और उसके दो बच्चों को यूपी में बेचे जाने का मामला सामने आया है। उधर, मामला संज्ञान में आने के बाद सीएम हेमंत सोरेन के निर्देश पर पुलिस ने टीम गठित कर उनके रेस्क्यू के लिए सीताराम को लेकर यूपी रवाना हो गई है।

घटना के संबंध में बताया जाता है कि महिला की फुफेरी बहन ने ही घटना को अंजाम दिया है। पीड़िता के पति ने जिला प्रशासन और पुलिस से मदद की गुहार लगाई और मामला सीएम तक पहुंच गया। उसने थाना में सनहा दर्ज कराया था। सीएम हेमंत सोरेन ने पुलिस को मामले में त्वरित कार्रवाई कर उनके रेस्क्यू का आदेश दिया।
भुक्तभोगी सीताराम मिस्त्री ने बताया कि वह गोरखपुर में मजदूरी करता है। पिछले साल सितंबर में ही मेरी पत्नी मायके जाने के नाम पर दोनों बच्चो के साथ निकली थी। उसके बाद से उसका कोई पता नहीं चला था। लॉकडाउन में 26 अप्रैल को मैं अपने गांव लौटा तो पता चला कि मेरी पत्नी 30 वर्षीय देवंती देवी है बेटा 8 वर्षीय सूरज कुमार और बेटी 11 वर्षीय अनिता कुमारी को पत्नी की फुफेरी बहन ममता घुमाने के नाम पर बहला-फुसला कर कानुपर ले गई थी और वहां ले जाकर बेच दिया।
उस दौरान भी मैंने पुलिस को सूचना दी थी, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। सीताराम मिस्त्री ने बताया कि शनिवार को मेरी पत्नी ने एक व्यक्ति के मोबाइल से फोन पर सारी बात बताई और मदद की गुहार लगाई। इसके बाद शनिवार को मैंने डंडई थाना में फिर से सनहा दर्ज कराया है। मेरी पत्नी देवंती उत्तर प्रदेश के कानपुर से जयपाल विश्वकर्मा नामक व्यक्ति के मोबाइल नंबर 7080829484 से फोन कर मुझे पूरी घटना की जानकारी दी।
वह मुझसे वहां से घर ले लाने की गुहार लगा रही है। पत्नी ने बताया कि मुझे बहुत ही कष्ट में यहां बंद घर में रखा गया है और मुझे कभी भी घर से बाहर निकलने की इजाजत नहीं दी जाती है। उसे वहां क्षेत्रीय भाषा बोलने के लिए दबाव डाला जाता है और तरह-तरह की प्रताडऩा दी जाती है।
उधर जानकारी मिलने के बाद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने गढ़वा की एक विवाहिता को बच्चों सहित उत्तर प्रदेश में बेचे जाने के मामले को गंभीरता से लिया है। उन्होंने गढ़वा के उपायुक्त व एसपी को निर्देश दिया है कि उस महिला व उसके बच्चों को शीघ्र वापस लाने का प्रयास करें और इस घटना में संलिप्त अपराधियों की तलाश कर उनके विरुद्ध दंडात्मक कार्रवाई करें। मुख्यमंत्री ने मंत्री मिथिलेश ठाकुर को भी इस मामले में संज्ञान लेने के लिए अनुरोध किया है।