Fri. Jun 14th, 2024

पूर्वी सिंहभूम जिले में 10 से 20 अगस्त तक राष्ट्रीय भेक्टर जनित रोग नियंत्रण के तहत चलेगा फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम, उपायुक्त ने अभियान के सफलतापूर्वक क्रियान्वन को लेकर दिए आवश्यक दिशा-निर्देश

पूर्वी सिंहभूम :उन्मूलन कार्यक्रम के तहत गर्भवती माता, 02 वर्ष से कम उम्र के बच्चों एवं गंभीर रूप से बीमार व्यक्ति के साथ-साथ वर्तमान में कोरोनावायरस से संक्रमित व्यक्ति को छोड़कर जिले के सभी लोगों को घर-घर जाकर दी जाएगी दवाई

*कार्यक्रम के जन जागरूकता के लिए प्रचार रथ को हरी झण्डी दिखाकर किया गया रवाना

कंटेन्मेंट जोन में नही होगा दवा का वितरण

राष्ट्रीय भेक्टर जनित रोग नियंत्रण के तहत संचालित फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम
10 से 20 अगस्त 2020 तक पूर्वी सिंहभूम जिले में चलाया जाएगा। इसी क्रम में रविवार जिला मलेरिया ऑफिसर सह जिला भीबीडी पदाधिकारी डॉ. मीना कालूंडीया द्वारा फाइलेरिया उन्मूलन अभियान के अंतर्गत सर्वजन दवा सेवन(MDA) कार्यक्रम के लिए जन जागरूकता हेतु 6 माइकिंग रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। इस कार्यक्रम के तहत लोगों को 3 दिन बूथ व तीन दिन घर-घर जाकर दवा खिलाई जाएगी। बूथ आंगनबाड़ी केंद्र तथा सार्वजनिक जगहों पर निर्धारित है। इस कार्य हेतु 2879 बूथ चिन्हित किया गया है तथा 458 लोगों को पर्यवेक्षण के लिए प्रतिनियुक्त किया गया है।

उपायुक्त सूरज कुमार के द्वारा कार्यक्रम के सफलतापूर्वक क्रियान्वयन को लेकर निर्देश देते हुए कहा गया है कि वर्ष 2020 में मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन कार्यक्रम के तहत उक्त तिथि के बीच में कोविड 19 के मद्देनजर तय गाइडलाइन क्व मुताबिक स्वास्थ्य केंद्रों/तय बूथों तथा घर-घर जाकर डीईसी और अल्बेंडाजोल टैब की गोली उम्र के अनुसार पूरे जिले में सभी लोगों को खिलाया जाना है, इसमें विशेष रुप से गर्भवती माता, 2 वर्ष से कम उम्र के बच्चों [जिनमें एक(01) वर्ष से अधिक उम्र के बच्चे को 400 mg का एक(01) अल्बेंडाजोल टेबलेट की आधी गोली दी जाएगी एवं गंभीर रूप से बीमार व्यक्ति के साथ-साथ वर्तमान में कोरोनावायरस से संक्रमित व्यक्तियों को इस उन्मूलन कार्यक्रम के तहत शामिल नहीं किया जाएगा। निर्धारित दिवस पर घर-घर जाकर गोली देने के क्रम में वितरण में लगे कर्मियों के द्वारा मास्क/फेस कभर तथा ग्लब्स का प्रयोग एवं सोशल डिस्टेंसिंग के तहत कम से कम 6 फीट की दूरी का पालन सुनिश्चित किया जाए तथा जिला प्रशासन के द्वारा संक्रमित व्यक्ति पाए जाने के उपरांत जिस-जिस क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन के रूप में चिन्हित किया गया है उस क्षेत्र के आसपास फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम का संचालन नहीं किया जाएगा तथा घर-घर दवा वितरण के क्रम में सीधे हाथ मे दवाई देने के बजाय किसी बर्तन या अन्य चीज़ में दिया जाएगा।

*● मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन के तहत दी जाने वाली दवा के खुराक की जानकारी व्यक्ति के आयु के अनुसार

01 वर्ष से 02 वर्ष आयु तक के लिए(01 वर्ष से कम आयु के बच्चे को कोई खुराक नहीं)

डीईसी(DEC,100mg) की गोली नहीं देना है तथा 400 mg का एक(01) अल्बेंडाजोल टेबलेट की आधी गोली दी जाएगी।

02 वर्ष से 05 वर्ष आयु तक के लिए

डीईसी(DEC,100mg) की एक(01) गोली तथा साथ में 400 mg का एक(01) अल्बेंडाजोल टेबलेट दिया जाएगा।

06 वर्ष से 14 वर्ष आयु तक के लिए

डीईसी(DEC,100mg) की दो(02) गोली तथा साथ में 400 mg का एक(01) अल्बेंडाजोल टेबलेट दिया जाएगा।

15 वर्ष तथा उससे अधिक आयु वाले के लिए

डीईसी(DEC,100mg) की तीन(03) गोली तथा साथ में 400 mg का एक(01) अल्बेंडाजोल टेबलेट दिया जाएगा।

सिविल सर्जन ने बताया कि पूरे जिले में 22 लाख से ज्यादा लोगों को दवा खिलाई जाएगी। उन्होंने उम्मीद जताते हुए कहा कि हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी जिले के लोग इस अभियान को सफल बनाने में स्वास्थ्य विभाग का सहयोग करेंगे। कोविड-19 को लेकर इस वर्ष दवा वितरण में अलग तरह की चुनौतियां है जिसके मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग द्वारा आवश्यक कदम उठाते हुए दवा वितरण किया जाएगा।

प्रचार रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना करने के मौके पर जिला अकाउंट्स मैनेजर सुबोध चौधरी, अनु सिंह फाइनेंस लॉजिस्टिक असिस्टेंट, भीबीडी कंसेलटेंट गीतांजलि शर्मा, पीकेएस एनजीओ के विनय खां, PCI एनजीओ के लवनीत महतो, राहुल कुमार सिंह समेत कई लोग उपस्थित थे।

Related Post