Sun. Jul 21st, 2024

लातेहार : जिले के महत्वाकांक्षी तुबेद कोयला परियोजना क्षेत्र तुबेद कोलियरी में दामोदर घाटी निगम द्वारा विस्थापित रैयतों के बीच मुआवजे की राशि का भुगतान शुरू कर दिया गया है।

लातेहार संवाददाता राहुल पांडे की रिपोर्ट

लातेहार : जिले के महत्वाकांक्षी तुबेद कोयला परियोजना क्षेत्र तुबेद कोलियरी में दामोदर घाटी निगम द्वारा विस्थापित रैयतों के बीच मुआवजे की राशि का भुगतान शुरू कर दिया गया है।

ज्ञात हुआ है कि डीवीसी के अधिकारियों ने विज्ञापन जारी कर अधिग्रहण क्षेत्र के रैयतों से उनकी राशि का भुगतान लेने की अपील की है। सदर थाना क्षेत्र के डीही, मंगरा, तुबेद, अम्बाझारन, धोबियाझारन एवं नेवाड़ी की कुल 1136 एकड़ भूमि सरकार द्वारा अधिग्रहित की गई है और डीवीसी को दी गई है। डीवीसी ने विस्थापित रैयतों के सत्यापन के बाद भुगतान शुरू कर दिया गया है।

जानकारी के अनुसार अंचल कार्यालय द्वारा जांच में तुबेद मौजा के खाता 65 के खतियानी रैयत बुद्धू उरांव और खाता 6 के खतियानी रैयत के उत्तराधिकारियों को लापता घोषित किया गया है। डीवीसी अधिकारियों ने अपने दावेदारों से अपील की है कि वे अपना दावा पेश कर राशि प्राप्त करें। डीवीसी द्वारा भुगतान को लेकर विस्थापित क्षेत्रों में खुशी का माहौल है।

विस्थापितों का कहना है कि अब तुबेद कोलियरी शीघ्र प्रारंभ हो जाएगी क्योंकि वर्षों से उनका भुगतान नहीं किया जा रहा था और उनकी भूमि क्रय विक्रय पर रोक लगा दी गयी थी। जिसके वजह से उन्हें काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा है। आवश्यकता पड़ने पर भी उनकी भूमि नहीं बिक पा रही थी। मुआवजा की राशि मिलने से उनमें हर्ष व्याप्त है।

विस्थापितों का कहना है कि अब जल्द ही तुबेद कोलियरी शुरू हो जाएगी क्योंकि उन्हें वर्षों से भुगतान नहीं किया जा रहा था और उनकी जमीन को खरीदने और बेचने पर रोक लगा दी गई थी। जिससे उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा है। जरूरत पड़ने पर भी उसकी जमीन नहीं बेची जा रही थी। मुआवजा राशि मिलने से वे खुश हैं।

Related Post