Sun. Jul 21st, 2024

पिता ने अपनी बेटी के हत्यारों पर कार्रवाई की मांग को लेकर एसपी को सौंपा आवेदन

*पिता ने अपनी बेटी के हत्यारों पर कार्रवाई की मांग को लेकर एसपी को सौंपा आवेदन*

 

*कहा पुलिस की मिलीभगत से आरोपियों को गिरफ्तार कर छोड़ने की गहन जांच हो*

 

*महिला आयोग ने शिकायत पर लिया संज्ञान, 15 दिनों के अंदर हजारीबाग एसपी से मांगी रिपोर्ट*

 

हजारीबाग : लोहसिंघना थाना क्षेत्र के मंडई कला निवासी शमशाद आलम पिता स्व मोबिन शाह ने हजारीबाग पुलिस अधीक्षक को आवेदन सौंपकर अपनी बेटी के हत्यारों पर कार्रवाई की मांग की है। साथ ही रास्ट्रीय महिला आयोग दिल्ली को भी ऑनलाइन शिकायत किया गया है,पत्र में शमशाद आलम ने बताया कि दहेज के लिए ससुराल वालों ने उनकी बेटी की बेरहमी से पीटकर एवं जहर पिलाकर उसकी हत्या कर दी है।

पत्र में कहा गया कि मामले को लेकर चैपारण कांड संख्या 121/2022 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई, लेकिन आरोपियों को गिरफ्तार कर उन्हें छोड़ दिया गया है। पत्र में उन्होंने बताया कि उन्होंने अपनी बेटी रानी प्रवीण की शादी मुस्लिम रीति रिवाज से चय खुर्द चैपारण निवासी मुर्शिद आलम उर्फ लाल बाबू पिता स्व सरफुद्दीन से कराई थी। वहीं शादी के कुछ दिनों के बाद से ही रानी प्रवीण के साथ ससुराल वालों ने मारपीट मानसिक एवं शारीरिक प्रताड़ना सुरु कर दिया गया, जिसके कई बार बैठक हुई और लिखापढ़ी के साथ समझौता थी हुआ। आवेदन में लड़की के पिता ने बताया कि ससुराल वालों ने उनकी बेटी के साथ मारपीट कर उसे जहर पिलाकर अस्पताल में भर्ती करा दिया, जहां उसकी मौत हो गई।

उन्होंने अपने दामाद मुर्शिद आलम उर्फ लाल बाबू, मोव जकउल्लाह, मो जावेद, खुर्शीद आलम उर्फ गुड्डू सभी के पिता सरफुद्दीन साह और साईदुन निसा पति स्व सैफुद्दीन साह, अजीजन निसा पति मो जकउल्लाह, तरन्नुम बानो पति जावेद अख्तर, खुशनुमा बानो पति खुर्शीद आलम उर्फ गुड्डू, सहाबुन निसा उर्फ ढाको पति मो राजा, ताबिबुल्लाह पिता मो जाफाउल्लाह, रहिमुल्लाह पिता जाफाउल्लाह एवं मो सैफ पिता मो मेहराब अली पर हत्या का आरोप लगाते हुए एसपी एवं महिला आयोग दिल्ली से कड़ी कार्रवाई की मांग की है। इधर रास्ट्रीय महिला आयोग दिल्ली ने मामले को गंभीरता से संज्ञान में लेते हुए केश दर्ज किया गया साथ ही हज़ारीबाग के पुलिश अधीक्षक मनोज रतन चौथे को पत्र भेजकर कड़ी से कड़ी कार्यवाही की मांग किया है,पत्र में महिला आयोग ने यह भी आदेश किया है की 15 दिनों के अंदर क्या क्या कार्यवाही आपके द्वारा किया गया है वह हमारे कार्यालय महिला आयोग दिल्ली को लिखित सूचित करें ।इधर दहेज मुक्त झारखंड के रास्ट्रीय अध्यक्ष डॉ आनन्द कुमार शाही के द्वारा मुख्यमंत्री झारखंड,डीजीपी झारखंड,रास्ट्रीय महिला आयोग दिल्ली को ट्विटर पर ट्वीट कर कड़ी से कड़ी कार्यवाही की मांग किया है ।

Related Post