Sat. Jul 20th, 2024

बच्चों के भविष्य का निर्माण स्थल विद्यालय चढ़ा भ्रष्टाचार की भेंट । एक तरफ़ हो रहा रंग रंगाई तो दूसरी ओर उजड़ रहा है कमरे का फर्श ।

*बच्चों के भविष्य का निर्माण स्थल विद्यालय चढ़ा भ्रष्टाचार की भेंट । एक तरफ़ हो रहा रंग रंगाई तो दूसरी ओर उजड़ रहा है कमरे का फर्श ।

*समग्र शिक्षा अभियान के तहत जोरी व मनगड्डा गांव में निर्माण किए जा रहे उच्च विद्यालय में संवेदक द्वारा घटिया निर्माण सामग्री का किया गया इस्तेमाल । विभाग कुम्भकर्णीय नींद में ।।

*कनीय अभियंता श्यामनारायण पिछले 16 वर्षों से चतरा में पदस्थापित रहकर सैकड़ो विद्यालय कराया घटिया निर्माण ।।

चतरा :- झारखण्ड सरकार बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिए नक्सल प्रभावित इलाकों में उच्च विद्यालय निर्माण कार्य की पहल किया । सरकार के इस सार्थक पहल का परिणाम चतरा जिले में नकारात्मक देखने को मिल रहा है । नौकरशाह और संवेदक दोनों मिलकर योजना राशि को लूटने में लगे है । सरकार के अति महत्वकांक्षी योजनाओं को भी संवेदक और विभाग के अधिकारी धरातल पर सही तरीके से उतारना उचित नहीं समझा और इनकी मिलीभगत से उच्च विद्यालय भवन निर्माण भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई पर अबतक इसे देखने वाला कोई नहीं है । चतरा जिले से महज 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित कान्हाचट्टी प्रखण्ड के जोरी गांव में उच्च विद्यालय निर्माण कार्य में घटिया सामग्री इस्तेमाल और घोर अनियमितता बरती गई है । इस विद्यालय निर्माण का हालात देख लेंगे तो ऐसा अनुभव होगा कि पिछले कई दशक पहले का निर्माण किया गया यह भवन है । मिली जानकारी के अनुसार कान्हाचट्टी प्रखण्ड के जोरी और मनगड्डा गांव में समग्र शिक्षा अभियान के तहत 2017-2018 में 60-60 लाख प्राकल्लन राशि के दो उच्च विद्यालय भवनो का निर्माण कार्य प्रारम्भ किया गया था परन्तु चार वर्ष बीत जाने के बावजूद अबतक भवन निर्माण कार्य अधूरा पड़ा हुआ है । दोनों भवनों के निर्माण कार्य का राष्ट्रीय शान की टीम ने जायजा लिया तो भवन की स्थित खंडहर में तब्दील होता नजर आया है । दोनों उच्च विद्यालय के कमरों का हालात काफी जीर्ण शीर्ण होता जा रहा है । सभी मार्बल टाइल्स उखड़ रहे है तो वही कमरों में लगाई गई खिड़कियां कबड़ गया है और एक भी दरवाजा नहीं लगता है । मनगड्डा में निर्माण कार्य किए गए भवन के चारों ओर उगी झाड़ियों के कारण यह भवन भूत बंगला सा दिखाई पड़ता है । इसके निर्माण कार्य मे संवेदक और कनीय अभियन्ता शिवनारायण की मिली भगत साफ दिखाई पड़ता है । घटिया सामग्री का इस्तेमाल करते हुए अधिकांश राशि की निकासी कर लिया गया है जो कि यह जांच का विषय है । कनीय अभियंता श्यामनारायण वर्ष 2005 से चतरा जिले में अब तक पदस्थापित रहकर विद्यालय निर्माण कार्य करवाने में दीमक की भांति विभाग को खोखला कर दिया । इनके द्वारा कराए गए कार्यो की निष्पक्ष जांच हो तो कई चौकाने वाले खुलासा होगा साथ ही इनकी संपति की जांच हो तो कई राज उभरकर सामने आ सकती है । जोरी उच्च विद्यालय भवन का बाहर से रंग रोगन किया जा रहा है और लगाया गया घटिया मार्बल उखड़ रहा है । भवन निर्माण कार्य में बरती जा रहे अनियमितता को लेकर ग्रामीण जिला शिक्षा पदाधिकारी के पास गए परन्तु उन्होंने बताया कि यह मेरे मॉनेटरिंग क्षेत्र से बाहर है जिसके पश्चात ग्रामीण निराश होकर बैरंग वापस लौट गए । अब देखना यह दिलचस्प होगा कि बच्चों के अच्छी शिक्षा के लिए विद्यालय निर्माण कार्य मे अनियमितता और घटिया निर्माण कार्य करने वाले संवेदक तथा दोषी अधिकारियों पर करवाई किया जाता है या मामला ठंडे बस्ते में चला जाता है ।

Related Post