Sat. Jul 20th, 2024

HC की तल्ख़ टिप्पणी: झारखण्ड में नक्सलियों ने भी कभी जज को नहीं बनाया निशाना लेकिन अपराधियों के निशाने पर हैं ज्यूडिशियल सिस्टम,कानून व्यवस्था बदतर

Ranchi: झारखंड हाईकोर्ट ने धनबाद के जज उत्तम आनन्द की मृत्यु मामले में संज्ञान लिया है. अदालत ने धनबाद के जिला न्यायाधीश के पत्र पर इस मामले में संज्ञान लेते हुए सुनवाई की और डीजीपी और धनबाद SSP को भी तलब किया. पूरे मामले की जानकारी भी उनसे ली. हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रविरंजन ने FIR होने में देर होने पर नाराजगी जाहिर की है. DGP को जल्द इस मामले त्वरित कार्रवाई का निर्देश दिया.

 

अदालत ने कहा कि हाईकोर्ट इस मामले की मॉनिटरिंग करेगा. हाईकोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा कि किसी भी वक्त अगर अदालत को ऐसा लगा कि जांच में कोताही बरती जा रही है तो यह मामला सीबीआई को दे दिया जाएगा. हाईकोर्ट ने मौखिक टिप्पणी करते हुए कहा कि झारखंड में कुछ दिनों पहले एक पुलिस पदाधिकारी की भी मौत हुई थी, उसके बाद एक वकील की हत्या हुई और अब एक जज की मृत्यु संदेहास्पद परिस्थितियों में हुई है. इसका मतलब यह है कि झारखंड में कानून व्यवस्था की स्थिति बदतर हो चुकी है.

Related Post