Sun. Apr 14th, 2024

जिला परिषद सूरज मंडल ने हल्दीपोखर रेलवे स्टेशन तथा इनके आसपास में फैल रहे प्रदूषण का स्थायी समाधान के संबंध में उपायुक्त को एक लिखित ज्ञापन दिया

* जिला पार्षद सूरज मंडल ने हल्दीपोखर रेवले स्टेशन तथा इनके आसपास के क्षेत्र में फैल रहे प्रदुषण का स्थायी समाधन के संबंध में पूर्वी सिंहभूम के उपायुक्त को एक लिखित ज्ञापन सौंपा सूरज मंडल द्वारा. लिखित ज्ञापन में कहा गया कि हल्दीपोखर रेलवे स्टेशन का माल ढुलाई लोडिंग अनलोडिंग हब बनाये जाने के कारण 24 घंटे ट्रेनों द्वारा कोयला, आयरन, लौह अयस्क जैसे अयस्क खुले आम लोडिंग अनलोडिंग का कार्य किया जा रहा है। सड़क रास्ते (एन0एच0 220) से भी ट्रेक, हाईवा क्षमता से अधीक नियमों को ताक पर रखकर माल ढुलाई की जा रही है। जिससे जहरीले धुलकण पुरे वातावरण को प्रदुषित कर रहे है उड़ रहे धुलकण के कारण आसपास के पेड़ पौधे पर काली परत जम चुकी है, तालाब का पानी भी प्रदुषित हो चुका है। जिससे ग्रामीण व पशु पक्षी बड़ी मात्रा में बीमार हो रहे हैं। धुलकण उड़ने के कारण (एन0एच0 220 ) में दिन के समय अंधेरा छाया रहता है। जिस कारण सड़क दुर्घटना में दिन प्रतिदिन बढ़ोतरी हो रही है। आय दिन सड़क दुर्घटना में लोग घायल हो रहे है। रेलवे स्टेशन के समीप हिन्दी विद्यालय हल्दीपोखर, गिरी भारती उच्च विद्यालय, विद्या भारती अंग्रेजी विद्यलय, नेताजी सुभाष पब्लिक स्कूल है रोज हजारो छात्र छात्राएँ इसी रास्ते से होकर कर गुजरते है। तथा रेलवे स्टेशन निकासी द्वार पर बिना किसी सूचना बोर्ड के एवं किसी गार्ड के हाईवा, ट्रक आदि बड़ी वाहनों का अचानक (एन0एच0 200 ) पर निकल जाने से विपरीत दिशा से आ रही है वाहनों का नियंत्रण खो जाने का डर है जिस कारण बढ़ी घटना से इंकार नहीं किया जा सकता है। सड़क सुरक्षा हेतु निकासी द्वार पर सूचना बोर्ड के साथ एक गार्ड की तैनाती की आवश्यकता है। प्रदुषण के कारण बच्चों के स्वास्थ्य पर भी बुरा असर पड़ रहा है। आसपास हल्दीपोखर नुवाग्राम, चापीडीह, हाता जैसे घनी आबादी वाला गाँव प्रदुषण की चपेट में है। प्रदुषण बढ़ने तथा कोई स्थायी समाधन न होने से आम जनता में काफी परेशान है।
श्री सूरज मंडल ने उपायुक्त महोदया से इस गंभीर मामले को संज्ञान में लेकर स्थायी समाधन हेतु उचित व आवश्यक कार्रवाई करने की माँग की है।

Related Post