Fri. Jun 21st, 2024

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लालबहादुर शास्त्री की कांग्रेसियों ने जयंती मनाई अन्याय के खिलाफ संघर्ष करने वाला एक ही काफी है आंदोलनकारी : असगर खान

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लालबहादुर शास्त्री की कांग्रेसियों ने जयंती मनाई

अन्याय के खिलाफ संघर्ष करने वाला एक ही काफी है आंदोलनकारी : असगर खान

चंदवा। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और प्रधानमंत्री स्व0 लालबहादुर शास्त्री की जयंती के मौके पर प्रखंड कांग्रेस कमिटि ने डाकबंगला में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लालबहादुर शास्त्री की चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर दीप जलाकर माल्यार्पण कर कांग्रेसियों ने जयंती मनाई, श्रद्धांजलि दिया,
इस अवसर पर प्रखंड अध्यक्ष सह राज्यसभा सांसद प्रतिनिधि असगर खान ने कहा कि आज राष्ट्र पिता की देश जयंती मना रहा है, उन्होंने आगे कहा कि आज ही के दिन 1869 में गुजरात के पोरबंदर में मोहनदास करमचंद गांधी का जन्म हुआ था, अहिंसा के बल पर अंग्रेजों को भारत छोड़ने पर मजबूर करने वाले देश के प्रथम राष्ट्रपति महात्मा गांधी का पूरा जीवन ही प्रेरणा से भरा हुआ है, पूज्य बापू का जीवन और आदर्श देश की हर पीढ़ी को कर्तव्य पथ पर चलने के लिए प्रेरित करता रहेगा, आज भी उनके महान सिद्धांत विश्व स्तर पर प्रासंगिक हैं और लाखों लोगों को ताकत देते हैं, वहीं कुछ शरारती तत्व व देश तोड़ने वाली ताकतें राष्ट्र पिता महात्मा गांधी के पुतले को गोली मारकर राष्ट्र प्रेमियों को आहत पहुंचाने का काम कर रहे हैं,


राष्ट्र पिता महात्मा गांधी जबरदस्त इच्छाशक्ति और अपार ज्ञान के धनी एक विशाल व्यक्तित्व ने भारत के स्वतंत्रता आंदोलन को अनुकरणीय नेतृत्व प्रदान किया, आज भी अन्याय के खिलाफ तथा समाज में जो वंचित हैं उनके लिए सत्याग्रह करने की आवश्यकता है, महात्मा गांधी के रास्ते पर चल कर अन्याय के खिलाफ जीत के लिए एक ही सत्याग्रह करने वाला काफी होता है, सेवादल जिला अध्यक्ष बाबर खान, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता रामयश पाठक, हरिनंदन दुबे, श्री राम शर्मा, मुकेश सिंह ने कहा कि भारतीय स्वाधीनता संग्राम का नेतृत्व कर देश को एकजुट करने वाले, दुनिया को अहिंसा का मार्ग दिखाने वाले बापू महात्मा गांधी जी की आज जयंती है, पूज्य बापू का जीवन दर्शन और उनके विचार हम सभी के लिए सदैव प्रेरणादायी हैं, उन्होंने सत्य अहिंसा एवं प्रेम का संदेश दिया, बापू का जीवन समरस समाज की स्थापना का मार्ग प्रशस्त करता है, जयंती के मौके पर दामोदर उपाध्याय, बालेश्वर उरांव, जंगाली भगत, मतिया देवी, मुस्ताक खान, साकीब खान, जलेंन्द्र ठाकुर व अन्य शामिल थे।

Related Post