Fri. Jun 21st, 2024

बिजली विभाग के अडियल रवैईय व खराब व्यवस्था को लेकर बरूरा के ग्रामीणों में भारी आक्रोश प्रतापपुर

बिजली विभाग के अडियल रवैईय व खराब व्यवस्था को लेकर बरूरा के ग्रामीणों में भारी आक्रोश

राजधानी न्यूज़ ब्यूरो बबलू खान की रिपोर्ट चतरा प्रतापपुर

  1. 23 प्रतापपुर 1 मे बिजली बहाल करने व बिजली खंभे की मरम्मति करने के मोके पर शामिल लोग।

 

 

बरूरा पंचायत के बरूरा भुईया टोली सहित कई अन्य टोलो व गांव में बिजली विभाग के खराब व्यवस्था व अडियल रवैईए को लेकर ग्रामीणों में भारी आक्रोश है ।विभाग के द्वारा वर्ष 2017 में ही बिजली के खंभे को खड़ा करने और ट्रांसफरमर लगाने की योजना थी । लेकिन आज चार वर्षो के बाद भी ठीक से बिजली के खंभे को भी खड़ा नही किया गया है।जबकि इस गांव में सुनियोजित ढंग से बिजली के खंभे खडा कर ट्रांसफरमर लगाकर गांव को बिजली बहाल करना था।बरूरा शरीफ चतरा जिले का एक लोकप्रिये स्थल के नाम से प्रसिद्ध है।यहां मजार है,जहां देश के दूर दराज के सैकडो लोग अपनी मंन्नते मांगने व पुरा होने पर सैकडो लोग प्रतिदिन माथा टेकने पहुंचते हैं।इसके बाबजूद भी यहां मात्र एक 25 केवी का ट्रांसफरमर लगाया गया था।वह भी जर्जर है।किसी तरह फिलामेंट जलता है।जब कि इस गांव में कुल छ: ट्रांसफरमर लगाने का प्वाईंट है।विभाग के द्वारा जैसे तैसे विजली का खंभे गाड कर छोड दिया गया।वर्तमान समय में कई बिजली के खंभे गिरकर टुट चुके हैं।लेकिन इस ओर अबतक विभाग का कोई ध्यान नही हुआ है।जनप्रतिनीधि लोग भी जनता की भलाई छोडकर बेफिक्र हैं।जिसके कारण गांव में बिजली की आपूर्ति बाधित है।

यहां के ग्रामीणों का कहना है कि बिजली नहीं होने के कारण काफी कठनाई का सामना करना पड़ता है| ग्रामीणों को मोबाइल चार्ज करने के लिए दूसरे जगहो पर जाना पड़ता है| ग्रामीणों ने सरकार से और बिजली विभाग से अनुरोध किया है कि जल्द से जल्द बरूरा पंचायत के गाँव व टोलो में बिजली बिजली के खंभे को चुस्त दुरूस्त करते हुये ट्रांसफरमर लगाकर बिजली बहाल करे।जिससे की बरूरा पंचायत के हजारो ग्रामीणो को बिजली मिल सके व उनके सपनों को सकार हो सके। वही पंचायत की मुखिया तैरा बीबी ,समाज सेवी नासिर खान ने बरूरा गांव में बिजली बहाल करने को लेकर कई बार विभाग को सूचना दिया।शुक्रवार को बरूरा सहित विभिन्न टोलो को दर्जनो लोगो

ने टेढे व अव्यवस्थित रूप से खडा खंभे की मरम्मति करने में लगे हैं। खंभे को ठीक करने में

कारू दास, संतोष भारती, कपिल भारती, फेककु भारती, कमलेश दास, मोती दास, शाबिर खांन, आरीफ खान, सुनिता देवी, कौसिला देवी सहित कई अन्य दर्जनो ग्रामीण शामिल थे |

Related Post